हर्निया के लक्षण (Symptoms of Hernia in Hindi): हर्निया एक सामान्य शारीरिक समस्या है जो ज्यादातर पुरुषों और महिलाओं में देखी जाती है। विशेष रूप से, पुरुषों में हर्निया के लक्षण अधिक दिखाई देते हैं और मांसपेशियों पर अत्यधिक दबाव इसका एक प्रमुख कारण हो सकता है।

पुरुषों में, हर्निया होने पर पेट या निचले छोरों में मांसपेशियों में सूजन होती है, जिससे उन्हें तेज दर्द होता है और साथ ही चलने में भी कठिनाई होती है। इसके अलावा यह समस्या छोटे बच्चों में भी पाया जाता है।

हर्निया क्या है? | What is Hernia in Hindi?

हर्निया एक असामान्य स्थिति है जिसमें शरीर या मांसपेशियों या ऊतक का एक हिस्सा कमजोर मांसपेशियों को धक्का देकर छिद्रण की मदद से स्वचालित रूप से बाहर निकल आता है।

अगर आसान भाषा में समझा जाए तो हमारे पेट के अंदर की आंतें एक परत या झिल्लियों से ढकी होती हैं, जो कभी-कभी कमजोर हो जाती हैं। जब भी इस पर अधिक दबाव पड़ता है, तो पेट में मौजूद आंत का कुछ हिस्सा इन कमजोर मांसपेशियों को छेद कर बाहर निकल आता है। इस स्थिति को हर्निया (Hernia in Hindi) कहा जाता है।

पढ़िये: दमा (Asthma) क्या है? कारण, लक्षण और उपचार

पेट के ऑपरेशन के बाद हर्निया होना काफी आम है। जब आप इस क्षेत्र को बाहर से देखते हैं, तो यह फूला हुआ दिखता है, जो आपके लेटते ही अंदर चला जाता है।

हर्निया में, रोगी को तेज दर्द होता है, चलने में कठिनाई होती है और उल्टी भी हो सकती है। यह आमतौर पर शरीर के किसी भी हिस्से की मांसपेशियों के कमजोर होने और वहां लगातार दबाव के कारण होता है।

हर्निया जैसी बीमारी से छुटकारा पाने के लिए ऑपरेशन ही एकमात्र विकल्प है। हालांकि, कुछ सावधानियां बरतने से, इस समस्या को गंभीर होने से पहले ही रोका जा सकता है।

पढ़िये: गैस्ट्राइटिस (Gastritis) के कारण, लक्ष्ण, इलाज और रोकने के तरीके

हर्निया के लक्षण | Symptoms of Hernia in Hindi

आमतौर पर हर्निया के कोई लक्षण नहीं होते हैं। लेकिन आप शरीर के बाहर से हर्निया का पता लगा सकते हैं और इसे महसूस कर सकते हैं।

हर्निया होने पर शरीर पर एक छोटा उभार होता है, जिसे छूने पर तेज दर्द महसूस होता है और आपको चलने में भी कठिनाई महसूस होती है। ऐसी स्थिति में मरीजों को तुरंत ऑपरेशन करवाना चाहिए।

नीचे हर्निया के कुछ सामान्य लक्षण हैं, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों में देखे जा सकते हैं।

पढ़िये: उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) को नियंत्रित करने के 7 घरेलू उपाय

हर्निया के प्रकार | Types of Hernia in Hindi

हालांकि, शरीर के विभिन्न हिस्सों में हर्निया की समस्या हो सकती है, जिन्हें नीचे विस्तार से बताया गया है।

Inguinal Hernia in Hindi: यह हर्निया का सबसे आम प्रकार है, जो महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक होता है। Inguinal Hernia कमर के ऊपर की कमजोर मांसपेशियों में होता है।

Umbilical Hernia in Hindi: यह एक पेट की हर्निया है जो नाभि के पास एब्डॉमिनल वॉल के कमजोर हिस्से में होता है। Umbilical Hernia में रोगी के आंत का कुछ हिस्सा अपने झिल्ली से बाहर निकल आता है। इस प्रकार का हर्निया छोटे बच्चों और अधिक वजन वाले वयस्कों में सबसे आम है।

Epigastric Hernia in Hindi: इस प्रकार का हर्निया नाभि और पसलियों के मध्य भाग में होता है।

Femoral Hernia in Hindi: पुरुषों की तुलना में महिलाओं में इस प्रकार का हर्निया अधिक होता है। यह हर्निया जांघों के ऊपरी भाग में होता है।

पढ़िये: अर्थराइटिस (Arthritis) के प्रकार, कारण, लक्षण और उपचार

हर्निया के कारण | Causes of Hernia in Hindi

हर्निया के प्रकार को जानने के बाद, आइए जानते हैं कि हर्निया के कारण क्या हैं।

  • मोटापा: अत्यधिक मोटापे के कारण मांसपेशियों के बीच फैट धीरे-धीरे जमा होता है। यह मांसपेशियों पर दबाव बढ़ाता है और उन्हें दो भागों में विभाजित करता है। जिससे हर्निया होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • सर्जरी: अगर शरीर के किसी हिस्से पर सर्जरी होती है और उसी जगह पर लगातार दबाव पड़ता है, तो ऐसी स्थिति में हर्निया होने की संभावना बढ़ जाती है। विशेष रूप से, एक सिजेरियन ऑपरेशन में, पेट के बीच में टांके लगाए जाते हैं, जिससे हर्निया की संभावना बढ़ जाती है।
  • खांसी: लंबे समय तक खांसी रहने पर आपको हर्निया हो सकता है। क्योंकि खांसते समय पेट पर अधिक दबाव पड़ता है।
  • कब्ज: कब्ज हर्निया के मुख्य कारणों में से एक है। लगातार कब्ज की शिकायत होने पर भी हर्निया हो सकता है।
  • मूत्र गुजरने में कठिनाई होने पर हर्निया होने की भी संभावना बढ़ जाती है।
  • मांसपेशियों में कमजोरी होने पर भी आपको हर्निया की समस्या हो सकती है। यदि आप कम प्रोटीन लेते हैं या गर्भावस्था के दौरान पूर्ण पोषण नहीं लेते हैं, तो मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं।
  • बुढ़ापे में हर्निया एक आम बात है। खासकर 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में हर्निया होने की संभावना अधिक होती है। हालांकि, हर्निया किसी भी उम्र में हो सकता है।
  • किडनी या लीवर की बीमारियों वाले मरीजों में हर्निया का खतरा अधिक होता है।
  • वेट लिफ्टिंग या बहुत अधिक वजन उठाने वाले लोगों को भी हर्निया की समस्या हो सकती है।
  • जो लोग अधिक सीढ़ियाँ चढ़ते और उतरते हैं उनमें हर्निया होने की संभावना अधिक होती है।

पढ़िये: निमोनिया (Pneumonia) के लक्षण व उपचार

हर्निया का इलाज | Treatment of Hernia in Hindi

हर्निया से छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका ऑपरेशन है। चूंकि यह एक संरचनात्मक दोष (Structural Defect) है, इसलिए सर्जरी आवश्यक हो जाती है।

हालांकि, हर्निया के शुरुआती चरण में रोगियों में दर्द को कम करने के लिए, डॉक्टर दर्द निवारक लेने की सलाह दे सकते हैं। लेकिन मरीजों को डॉक्टर से पूछे बिना दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

अपनी जीवनशैली में छोटे बदलाव करके, इसे गंभीर स्थिति तक पहुँचने से पहले रोका जा सकता है।

  • अपने निर्धारित वजन से 5 किलोग्राम से अधिक वजन न बढ़ाएं। वजन पर नियंत्रण रखें।
  • अपने आहार में प्रोटीन युक्त आहार शामिल करें ताकि मांसपेशियां मजबूत बनें। हमेशा पौष्टिक आहार लें।
  • धूम्रपान खांसी का कारण बनता है और खांसी होने पर हर्निया की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए हमेशा धूम्रपान से बचें।
  • पानी खूब पिएं ताकि पेशाब से जुड़ी कोई बीमारी न हो।
  • ज्यादा वजन न उठाएं।
  • बहुत अधिक या बहुत जल्द सीढ़ियाँ न चढ़ें।
  • पेट को मजबूत बनाने वाले आसन करें।

पढ़िये: डायरिया (Diarrhea) क्या है? लक्षण, कारण और उपचार

हर्निया ( Hernia in Hindi) ऑपरेशन के बाद अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. हर्निया के ऑपरेशन में कितना खर्च आता है?

हर्निया सर्जरी के दो तरीके हैं, एक है ओपन सर्जरी और दूसरा है Laparoscopic Surgery यानी दूरबीन सर्जरी।

ओपन सर्जरी में दोनों मांसपेशियों के बीच एक जाली लगाई जाती है, जिसकी कीमत 10,000 रुपये से लेकर 35,000 रुपये तक हो सकती है।

पूरे ऑपरेशन की लागत लगभग 50,000 रुपये से लेकर 70,000 रुपये तक हो सकती है। लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (Laparoscopic Surgery) में दोनों मांसपेशियों के बीच दो जाली लगाई जाती है, जिसकी कीमत 40,000 रुपये से लेकर 55,000 रुपये तक हो सकती है। पूरे ऑपरेशन की लागत लगभग 1,00,000 रुपये से लेकर 1,25,000 रुपये तक हो सकती है।

पढ़िये: बवासीर (Piles) के कारण, प्रकार, लक्षण और इलाज

Q. हर्निया ऑपरेशन में कितना समय लगता है?

हर्निया की सर्जरी में आमतौर पर आधे घंटे से दो घंटे लगते हैं। ज्यादातर मामलों में, रोगि को 1 या 2 दिनों में छुट्टी (Discharged) दे दी जाती है।

यदि रोगी 70 वर्ष से अधिक आयु का है, तो डॉक्टर सर्जरी की सलाह नहीं देते हैं। हालांकि, आपातकालीन स्थिति में सर्जरी करनी पड़ सकती है।

Q. हर्निया ऑपरेशन के बाद मरीजों को क्या करना चाहिए?

हर्निया ऑपरेशन के बाद मरीजों को निम्नलिखित बातों पर अधिक ध्यान देना चाहिए।

  • भारी चीजें उठाने से बचें: सामान्य तौर पर, हर्निया के रोगियों को 5 किलोग्राम से अधिक वजन उठाने से बचना चाहिए। खासकर बुजुर्गों को कम से कम वजन उठाने की सलाह दी जाती है।
  • सीढ़ियों पर चढ़ने से बचें: हर्निया के ऑपरेशन के 2 से 3 दिनों के बाद, रोगी को चलने की सलाह दी जाती है। हालांकि, उन्हें दौड़ने और सीढ़ियां चढ़ने से परहेज करने का निर्देश दिया जाता है।
  • वाहन चलाने से बचें: हर्निया ऑपरेशन के दो सप्ताह बाद, डॉक्टर रोगी को ड्राइव करने की अनुमति दे सकते हैं, जो रोगियों की स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करता है।

References

  • LeBlanc, K. E., LeBlanc, L. L., & LeBlanc, K. A. (2013). Inguinal hernias: diagnosis and management. American family physician, 87(12), 844–848. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23939566/
  • Georgiou, E., Schoina, E., Markantonis, S. L., Karalis, V., Athanasopoulos, P. G., Chrysoheris, P., Antonakopoulos, F., & Konstantinidis, K. (2018). Laparoscopic total extraperitoneal inguinal hernia repair: Retrospective study on prosthetic materials, postoperative management, and quality of life. Medicine, 97(52), e13974. https://doi.org/10.1097/MD.0000000000013974

Leave a Comment