शिलाजीत एक ऐसा हर्बल-खनिज या रसौषधि है जो सदियों से आयुर्वेदिक उपचार प्रक्रियाओं में एक महत्वपूर्ण घटक रहा है। शक्तिशाली एडाप्टोजेनिक और कामोद्दीपक गुणों के साथ शिलाजीत एक आयुर्वेदिक घटक है।

शिलाजीत का उपयोग न केवल तनाव और चिंता के प्रबंधन के लिए किया जाता है, बल्कि यह डिसुरिया, ग्लाइकोसुरिया, श्वास संबंधी विकार, मूत्र विकार, गुर्दे की पथरी, एडिमा जैसी स्थितियों के उपचार में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शिलाजीत का मुख्य कार्य में से एक थायरॉयड ग्रंथि के कार्यों को विनियमित और सुधारना है।

शिलाजीत के 12 स्वास्थ्य लाभ | 12 Shilajit Benefits in Hindi

1. मधुमेह का प्रबंधन करता है

शिलाजीत का उत्कृष्ट हाइपोग्लाइकेमिक गुण मधुमेह रोगियों में रक्त शर्करा और लिपिड प्रोफाइल को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, खासकर जब मधुमेह की दवाओं के साथ लिया जाता है।

शिलाजीत लेने से अग्नाशयी β-कोशिकाओं से इंसुलिन का उत्पादन सक्रिय होता है। यह स्टार्च के ग्लूकोज में टूटने को कम करने में मदद करता है जो बदले में रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है।

2. आंतों की परेशानी को रोकता है

शिलाजीत के शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी और रेचक गुण जहरीले बैक्टीरिया हेलिकोबैक्टर पाइलोरी के विकास को रोकने में मदद करते हैं और इसे आंतों में संक्रमण पैदा करने से भी रोकते हैं। अपने मजबूत रेचक प्रकृति के कारण, यह कब्ज के लिए प्रभावी रूप से काफी उपयोगी है।

यह बवासीर के रोगियों के मल को नरम करता है, जिससे मल आसानी से निकल जाता है। यह कोलन में तरल पदार्थ को सूखने से भी रोकता है और पेट में गड़बड़ी, आंतों की गैस, पेट फूलना, पेट का दर्द आदि को रोकता है।

3. दर्द और सूजन के उपचार करता है

शिलाजीत एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-आर्थराइटिक गुणों से भरपूर होता है, जो गठिया के कारण होने वाले दर्द और सूजन से राहत दिलाने के लिए एक बेहतर विकल्प माना जाता है।

यह संधिशोथ के खिलाफ भी बेहद प्रभावी है जिसे आयुर्वेद में अमावता के रूप में जाना जाता है। अमावता आमतौर पर वात दोषों के खराब होने और जोड़ों में अमा के जमा होने के कारण होता है।

4. घाव और अल्सर का इलाज करता है

शिलाजीत में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-अल्सर गुण विभिन्न प्रकार के अल्सर के इलाज के लिए उपयोगी होते हैं। अल्सरेटिव कोलाइटिस, पेप्टिक अल्सर, नासूर घावों या मुंह के छालों आदि के उपचार में इसका अत्यधिक महत्व है।

शिलाजीत ऊतक पुनर्जनन (tissue regeneration) को भी बढ़ावा देता है और इसलिए घावों को जल्दी भरने में मदद करता है।

5. कामेच्छा और प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए शिलाजीत एक वरदान है। यह कामेच्छा बढ़ाने और प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए एक पूर्ण पारंपरिक उपाय प्रदान करता है। यह मजबूत कामोत्तेजक गुणों को प्रदर्शित करता है जो न केवल मानसिक तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है बल्कि टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को भी उत्तेजित करता है जो कामेच्छा और प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है।

यह पुरुषों में पौरुष और सहनशक्ति बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सोने से पहले दूध के साथ शिलाजीत कैप्सूल का सेवन जननांगों में रक्त परिसंचरण को बढ़ाने के लिए जाना जाता है, जिससे ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन और टेस्टोस्टेरोन जैसे पुरुष हार्मोन के उत्पादन में सुधार होता है। इस प्रकार यह पुरुषों के शुक्राणुओं की गतिशीलता और गुणवत्ता में सुधार करता है।

6. संज्ञानात्मक कार्य में सुधार करता है

शिलाजीत मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को बढ़ाने का एक पारंपरिक उपाय है। यह मस्तिष्क के कुछ रसायनों के टूटने को रोकता है जो स्मृति के लिए आवश्यक हैं, जिससे व्यक्ति की स्मृति क्षमता, ध्यान, एकाग्रता, शांति, सतर्कता में बढ़ोतरी होती है।

मस्तिष्क टॉनिक और उत्तेजक होने के कारण, शिलाजीत कैप्सूल या अन्य फॉर्मूलेशन लेने वाले लोगों में तर्क, स्मृति, समस्या-समाधान और अन्य संज्ञानात्मक क्षमताओं में सुधार होती है। इस प्रकार Shilajit अल्जाइमर और अन्य मानसिक स्थितियों के इलाज के बहुत उपयोगी माना जाता है।

7. तनाव और चिंता से मुक्ति दिलाता है

एक शक्तिशाली एडाप्टोजेन होने के कारण, शिलाजीत विभिन्न प्रकार की मानसिक समस्याओं जैसे कि अवसाद, मनोभ्रंश आदि के इलाज के लिए फायदेमंद है। यह शरीर में वात और पित्त दोषों को स्थिर करता है जो बदले में सेरोटोनिन के स्तर को नियंत्रण में रखता है और चिंता के विभिन्न लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

इस जड़ी बूटी के शक्तिशाली एंटीडिप्रेसेंट गुण मन को शांत करने, सभी प्रकार के शारीरिक और मानसिक तनाव को कम करने, चिड़चिड़ापन और सहनशक्ति में सुधार करने में भी मदद करते हैं।

8. कार्डिएक फंक्शन को बढ़ावा देता है

शिलाजीत एक ऐसी जड़ी-बूटी और यौगिक खनिज है जिसका हृदय पर सकारात्मक प्रभाव पाया गया है। एंटीऑक्सिडेंट और कार्डियो-सुरक्षात्मक गुणों से भरपूर, यह कई हृदय रोगों के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह मन और तन को शांत करने में मदद करता है और साथ ही हृदय प्रणाली को आराम देता है, जो अतालता और धड़कन से पीड़ित रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद है।

शिलाजीत हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करने, रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और लिपिड संचय को रोकने में भी फायदेमंद है, जो बदले में एथेरोस्क्लेरोसिस, हृदय ब्लॉक, रक्त के थक्के, दिल के दौरे आदि के जोखिम को कम करता है।

9. उम्र बढ़ने को धीमा करता है

शिलाजीत अपने पुनर्योजी प्रभावों के लिए जाना जाता है। यह न केवल ऊतक की मरम्मत और पुनर्जनन में सहायता करता है, बल्कि इसकी शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के कारण, यह सेलुलर क्षति से बचाता है। यह हृदय, फेफड़े, यकृत और त्वचा के ऊतकों में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है।

इसमें मौजूद फुल्विक एसिड की मौजूदगी शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाती है और इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण हड्डियों में कैल्शियम का संतुलन बनाए रखते हैं, जिससे व्यक्ति मजबूत बनता है। शिलाजीत प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है और संक्रमण से बचाता है।

10. एनीमिया को रोकता है

एनीमिया एक ऐसी स्थिति या बीमारी है जिसमें रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं या हीमोग्लोबिन की संख्या कम हो जाती है। इस हर्बो-मिनरल कंपाउंड में ह्यूमिक एसिड और आयरन के उच्च स्तर की उपस्थिति हीमोग्लोबिन के स्तर और आरबीसी काउंट में सुधार करने में मदद करती है। अंतत: यह आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया रोग के इलाज में बेहद फायदेमंद है।

11. वजन घटाने की सुविधा देता है

शुद्ध शिलाजीत में सक्रिय घटकों की प्रचुरता शरीर को अतिरिक्त वजन को तेजी से कम करने में मदद करती है। जब शिलाजीत की खुराक नियमित रूप से ली जाती है तो यह भूख में कमी और अधिक खाने से रोकने में मदद करती है। इसलिए यह वजन घटाने वाले आहार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

यह शरीर में एलडीएल (यानी कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या खराब कोलेस्ट्रॉल) के संचय को भी कम करता है। यह जीन को सक्रिय करता है जो शरीर को काम करने के लिए सकारात्मक प्रतिक्रिया देने में मदद करता है, जिससे चयापचय में सुधार होता है और शरीर को उचित वजन बनाए रखने में मदद मिलती है।

12. क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम को ठीक करता है

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम एक परेशान करने वाली स्वास्थ्य स्थिति है जो शारीरिक और मानसिक तनाव के कारण तीव्र थकान और ऊर्जा की हानि का कारण बन सकती है।

शिलाजीत में मौजूद खनिजों की खदान शरीर में सेलुलर कार्यों को बेहतर बनाने में काफी हद तक मदद करती है। यह ऊर्जा को बढ़ाता है और अंततः क्रोनिक फटीग सिंड्रोम समय के साथ ठीक हो जाता है।

निष्कर्ष | Conclusion

शिलाजीत एक अविश्वसनीय औषधीय यौगिक है जिसे एडाप्टोजेन के रूप में वर्गीकृत किया गया है और यह तनाव व चिंता को सामान्य करने में मदद करता है। एक शक्तिशाली कामोद्दीपक होने के नाते, शिलाजीत कामेच्छा में सुधार करता है, बांझपन का इलाज करता है और पुरुषों और महिलाओं दोनों में प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करता है।

शिलाजीत दिल के बेहतर कामकाज को भी सुनिश्चित करता है, मधुमेह को नियंत्रित करता है, पाचन में सहायता करता है, याददाश्त बढ़ाता है, सूजन का इलाज करता है और इस प्रकार शरीर की समग्र सहनशक्ति और प्रतिरक्षा में सुधार करता है।

Leave a Comment