Home Remedies for Diabetes in Hindi: इस लेख में आप डायबिटीज को नियंत्रित करने के घरेलू उपायों के बारे में जानेंगे। इसके अलावा, आपको मधुमेह के कारणों और प्रकारो के बारे में भी विस्तृत जानकारी मिलेगी।

डायबिटीज, जिसे मधुमेह भी कहा जाता है, आजकल एक आम बीमारी बन गई है, जिससे ज्यादातर लोग पीड़ित हैं। इसका मुख्य कारण हमारी व्यस्त जीवनशैली और बदलती खानपान की आदतें हो सकती हैं।

Diabetes को नियंत्रित करने के लिए, हमें अपनी जीवनशैली और भोजन दोनों को बेहतर बनाना होगा और साथ ही हमें अपने जीवन में घरेलू उपचारों की शुरुआत करनी होगी।

अत्यधिक प्यास लगना, बार-बार पेशाब आना, अचानक वजन कम होना, थकान और अधिक भूख लगना आदि डायबिटीज के लक्षण होते हैं।

पढ़िये: डायरिया क्या है? लक्षण, कारण और उपचार | What is Diarrhea in Hindi?

मधुमेह क्या है? | What is Diabetes in Hindi?

शुगर (मधुमेह या Diabetes) आमतौर पर शरीर में इंसुलिन की कमी के कारण होता है। इंसुलिन हमारे शरीर के रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

जब हम खाते हैं, तो यह ग्लूकोज नामक ईंधन में परिवर्तित हो जाता है, जो हमारे शरीर में रक्त शर्करा का एक प्रकार है। यह ग्लूकोज हमारे शरीर की लाखों कोशिकाओं में प्रवेश करता है और हमें ऊर्जा प्रदान करता है। इसे ऊर्जा में परिवर्तित करने में इंसुलिन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हमारे पेट के नीचे अग्न्याशय हमारे शरीर में इंसुलिन उत्पादन का मुख्य स्रोत है। यदि अग्न्याशय ठीक से कार्य करने में असमर्थ होता है, तो शरीर में इंसुलिन का पर्याप्त उत्पादन बाधित होता है। इसके कारण रक्त शर्करा कोशिकाओं तक ठीक से नहीं पहुंच पाता है और रक्त में जमा होने लगता है।

यह रक्त शर्करा हमारे शरीर में धीरे-धीरे जमा होता रहता है, जिसके कारण हमारे रक्त में शर्करा का स्तर बढ़ता है और अंततः हमें मधुमेह जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

पढ़िये: अस्थमा (दमा) क्या है? कारण, लक्षण और उपचार | Asthma in Hindi

मधुमेह के प्रकार | Types of Diabetes in Hindi

टाइप 1 मधुमेह (Type 1 Diabetes)

टाइप 1 मधुमेह ज्यादातर बच्चों और 20 साल से कम उम्र के लोगों में होता है। कुछ मामलों में, अग्न्याशय बिल्कुल काम करना बंद कर देता है। इसके कारण शरीर में इंसुलिन का उत्पादन भी पूरी तरह से रुक जाता है। यह स्थिति मधुमेह टाइप 1 को जन्म देती है।

टाइप 1 मधुमेह में, हमारे शरीर में मौजूद ग्लूकोज ऊर्जा में परिवर्तित नहीं होता है और हमारा शरीर धीरे-धीरे कमजोर होने लगता है। इससे हम जल्दी थक जाते हैं, और कभी-कभी यह हमारे वजन को प्रभावित करता है। इसके अलावा हमारा इम्यून सिस्टम भी कमजोर होने लगता है।

पढ़िये: उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के 7 घरेलू उपाय | High Blood Pressure in Hindi

टाइप 2 मधुमेह (Type 2 Diabetes)

दुनिया भर में अधिकांश लोग टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित हैं। टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के शरीर में इंसुलिन की पर्याप्त मात्रा होती है, लेकिन यह ठीक से काम नहीं करता है।

रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल हमारे रक्त कोशिकाओं के चारों ओर चिपक जाता है। जिसके कारण रक्त में मौजूद इंसुलिन कोशिकाओं तक नहीं पहुंच पाता है।

इसका मतलब है कि शरीर में सभी ग्लूकोज को अवशोषित करने के लिए पर्याप्त संख्या में रिसेप्टर्स (receptors) नहीं होते हैं। यह इंसुलिन शरीर में उपयोग के लिए उपयुक्त नहीं है। यह शरीर के लिए किसी काम का नहीं है।

पढ़िये: निमोनिया के लक्षण व उपचार | Home Remedies for Pneumonia in Hindi

गर्भावस्थाजन्य मधुमेह (Gestational Diabetes)

इस प्रकार का मधुमेह मुख्य रूप से गर्भावस्था के दौरान होता है। यह मधुमेह गर्भावस्था में आम है और बच्चे के जन्म के बाद चला जाता है। यदि आपको गर्भावधि मधुमेह है, तो टाइप 2 मधुमेह के विकास का जोखिम जल्द ही बढ़ जाता है।

मधुमेह के लिए घरेलू उपचार | Home Remedies for Diabetes in Hindi

मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए घरेलू उपचार सबसे बेहतर और लाभदायक तरीका होता है। नीचे दिए गए 3 सुझावों का पालन करके, आप अपने मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं और ये सभी शुगर लेवल को कंट्रोल करने में बहुत प्रभावी होते हैं।

पढ़िये: गैस्ट्राइटिस के कारण, लक्ष्ण, इलाज और रोकने के तरीके | Gastritis in Hindi

1. गुड़हल के पत्ते (Hibiscus leaves)

मधुमेह को ठीक करने का पहला नुस्खा गुड़हल की पत्तियां (Hibiscus leaves) हैं। यह पेड़ आपको किसी भी बगीचे या पौधशाला में आसानी से मिल जाएगा। इसके पत्तों में एंटीडायबिटिक गुण होते हैं जो मधुमेह को नियंत्रित करने में बहुत सहायक होते हैं।

गुड़हल की पत्ति में फ़ेरुलिक एसिड (Ferulic acid) पाया जाता है, जो मधुमेह में अधिक प्रभावी है। अगर आप इस नुस्खे को 15 दिनों तक लगातार आजमाते हैं, तो आप देखेंगे कि शुरुआत के सिर्फ 10 दिनों में आपका ब्लड शुगर लेवल काफी सुधर जाएगा। 15 दिनों में आपका ब्लड शुगर लेवल पूरी तरह से नियंत्रण में आ जाएगा।

सामग्री:
  • गुड़हल के पत्ते
  • एक गिलास पानी
बनाने की प्रक्रिया
  1. इस रेसिपी को बनाने के लिए, गुड़हल की 8 से 10 पत्तों (Hibiscus leaves) को बारीक पीस लें।
  2. एक गिलास पानी लें और इसे अच्छे से मिला लें और रात भर छोड़ दें।
  3. सुबह उठकर इसे खाली पेट पिएं।

पढ़िये: शतावरी के फायदे, उपयोग और नुकसान | Shatavari Benefits in Hindi

2. सहजन के पत्ते (Drumstick leaves)

हालांकि सहजन की पत्तों में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, लेकिन यह मधुमेह को नियंत्रित करने में एक विशेष भूमिका निभाता है। इसके पत्तों में एस्कॉर्बिक एसिड पाया जाता है, जो स्वाभाविक रूप से हमारे शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाता है। जिसके कारण हमारा ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है।

जो लोग रोज इंसुलिन के लिए इंजेक्शन या दवाई ले रहे हैं, उनके लिए यह प्राकृतिक इंसुलिन की तरह है।

सहजन की पत्तों में उच्च फाइबर सामग्री होती है जो हमारे चयापचय और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है। यह हमारे शरीर के कमजोरी को दूर करने के साथ साथ हमें ताकत प्रदान करता है। यह नुस्खा आपके मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए बहुत प्रभावी है।

सामग्री:
  • सहजन के पत्ते
  • एक गिलास पानी
बनाने की प्रक्रिया
  1. ताजे सहजन के पत्तों को अच्छी तरह पिस लें।
  2. फिर इसे निचोड़ें और रस निकालें।
  3. इस रस को एक गिलास गुनगुने पानी में मिला लें।
  4. भोजन से आधे घंटे पहले इस मिश्रण को दिन में दो बार लें।
  5. इस पेय को लेने के कम से कम एक घंटे तक किसी भी दवा का सेवन न करें।

पढ़िये: शिलाजीत के फायदे, उपयोग और नुकसान | Shilajit Benefits in Hindi

3. बेल के पत्ते और जामुन (Vine leaves and Berries)

इसके अलावा, एक और नुस्खा है जिसे आपको इसे बनाने की आवश्यकता होगी। लोग प्राचीन समय से इस अद्भुत नुस्खा का उपयोग कर रहे हैं। यह मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए अब तक का सबसे प्रभावी नुस्खा है।

बेल के पत्तों में एंटीडायबिटिक गुण होते हैं जो शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम करते हैं। इसके अलावा जामुन में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी पाए जाते हैं। इसमें उच्च मात्रा में फाईबर भी होता है जो मधुमेह में चमत्कारिक रूप से फ़ायदेमंद साबित होता है।

सामग्री:
  • बेल के पत्ते
  • जामुन के बीज
  • मेथी
बनाने की प्रक्रिया
  1. इस रेसिपी को बनाने के लिए बेल के पत्तों और जामुन के विजों को धूप में रखें और अच्छी तरह से सुखाएं।
  2. पूरी तरह से सूख जाने के बाद, उन्हें अच्छी तरह से पीस लें और दोनों का पाउडर बना लें।
  3. फिर इसमें बराबर मात्रा में मेथी पाउडर मिलाएं।
  4. इस तरह इन सभी चीजों को मिलाकर एक पाउडर तैयार किया जाएगा।
  5. इस चूर्ण का 1 से 1.5 चम्मच गर्म पानी के साथ पिएं।
  6. बेहतर परिणाम के लिए, इसे सुबह और शाम को खाने से एक घंटे पहले खाली पेट पर पिएं।

Leave a Comment