सीने में जलन (Heartburn in Hindi) क्या है?

हार्टबर्न (Heartburn) को गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स भी कहा जाता है, जो कि जठरांत्र संबंधी विकार है। हार्टबर्न नाम से यह  न समझे कि इसका दिल से कोई लेना-देना है। बल्कि, यह तब होता है जब पेट की एसिड ग्रासनली से होते हुए गले की ओर प्रवाहित होती है। ग्रासनली या Esophagus वह नली है जो गले को पेट से जोड़ती है।

ज्यादातर लोगों को अक्सर सीने में जलन (Heartburn) की शिकायत होती है और इससे गले के पिछले हिस्से में कड़वा या खट्टा स्वाद का अनुभव होता है। यह प्रभाव कई घंटों तक रह सकता है और खाने के बाद और भी ज्यादा खराब हो सकता है।

हार्टबर्न एसिड भाटा का एक सामान्य लक्षण है। इससे छाती के निचले हिस्से में जलन होती है। यदि लगातार एसिड भाटा सप्ताह में दो या अधिक बार होता है, तो इसे गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (GERD) कहा जाता है।

अगर आप भी हार्टबर्न के बारे में जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को शुरू से अंत तक जरूर पढ़ें। इस लेख में हमने हार्टबर्न के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है।

सीने में जलन (Heartburn in Hindi) के कारण

हार्टबर्न कई कारणों से हो सकता है, जिसमें बहुत मसालेदार भोजन करना या बहुत अधिक शराब पीना शामिल है। यदि यह समस्या समय-समय पर होती है, तो आमतौर पर चिंता की कोई बात नहीं है। ये लक्षण बिना इलाज के समय के साथ दूर हो जाते हैं।

यदि हार्टबर्न एक से अधिक बार या लंबे समय तक अनुभव होती है, तो यह एक अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकता है। इसके लिए निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थिति जिम्मेदार हो सकते हैं।

हालांकि, क्रोनिक गैस्ट्राइटिस समय के साथ धीरे-धीरे प्रकट होते हैं, जिसके कारण हम इसे अनदेखा कर देते हैं। उपचार के बिना, यह समय के साथ कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है। गैस्ट्राइटिस के कारण विटामिन की कमी या पेट के अल्सर जैसी बीमारी हो सकती है।

1. गैस्ट्राइटिस

गैस्ट्राइटिस (Gastritis) पेट की एक गंभीर बीमारी है, जिसमें आंत में अम्लीय पाचक रसों से पेट की परत में सूजन आ जाती है। गैस्ट्राइटिस पेट की परत की सूजन है और यह Helicobacter Pylori नामक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है।

कुछ लोगों को गेस्ट्राइटिस अचानक (तीव्र जठरशोथ) का अनुभव हो सकता है और केवल थोड़े समय तक रहता है। दूसरे लोगों को पुरानी जठरशोथ की समस्या होती है, जो सही उपचार न मिलने पर वर्षों तक बनी रह सकती है।

गैस्ट्राइटिस के कारणों में शामिल हैं:

  • मतली
  • उल्टी
  • हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (H. Pylori) संक्रमण
  • पेट की परत को नुकसान
  • शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली
  • पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द

2. पेप्टिक अल्सर रोग

गैस्ट्राइटिस की तरह ही पेप्टिक अल्सर पेट की एक गंभीर बीमारी है। पेप्टिक अल्सर, या पेट का अल्सर, पेट के अंदरूनी हिस्से में घाव के कारण होता है। यह घाव Helicobacter Pylori नामक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है।

नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs), जैसे कि इबुप्रोफेन और एस्पिरिन के लंबे समय तक उपयोग से पेट में अल्सर हो सकता है। इसके अलावा, पेट में एसिड के अत्यधिक निर्माण के कारण भी पेप्टिक अल्सर हो सकता है।

एच. पाइलोरी बैक्टीरिया इस बीमारी का प्रमुख कारणों में से एक है। अगर इस बीमारी का सही समय पर इलाज नहीं किया गया तो आने वाले समय में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यह दिनों, हफ्तों या महीनों तक आ और जा सकता है।

3. दवा के दुष्प्रभाव

कुछ दवाएं की साइड इफेक्ट के कारण हार्टबर्न की शिकायत हो  सकती है। इनमें विशिष्ट एंटीबायोटिक्स और एनएसएआईडी दवाईयां शामिल हैं, जैसे कि इबुप्रोफेन

दवा की सूचना पत्रक या पैकेजिंग में आमतौर पर किसी भी संभावित दुष्प्रभाव की सूची होती है। यदि आपको किसी दवाई के सेवन के कारण दुष्प्रभाव या दिक्कत दिखाई दे, तो इसके बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क कर सकते हैं।

4. गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान मतली और सीने में जलन दोनों चीजें महिलाओं को प्रभावित कर सकती हैं। इसका मुख्य कारण पेट में भोजन रखने वाली मांसपेशियों को प्रभावित करने वाले हार्मोन में उतार-चढ़ाव हो सकता है। यह परिवर्तन एसिड को पेट से ग्रासनली या Esophagus में जाने की अनुमति दे सकता है।

गर्भवती महिलाओं में अपच के लक्षण बहुत ही सामान्य घटना है। इसके अलावा, जी मिचलाना और उल्टी जैसी समस्या भी दिखाई दे सकती हैं।

गर्भावस्था के दौरान मॉर्निंग सिकनेस की समस्या भी दिखाई देती हैं। इसके कारण भी गर्भवती महिलाओं को केवल मिचली आ सकती है, या वे उल्टी भी कर सकते हैं।

5. पेट का कैंसर

कई दुर्लभ मामलों में, हार्टबर्न और मतली का बार-बार आना पेट के कैंसर का संकेत हो सकता है। यदि आप भी ऐसी स्थिति का सामना कर रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

पेट का कैंसर के अन्य कारणों में शामिल हैं:

  • भूख में कमी
  • अस्पष्टीकृत तरीके से वजन मे कमी
  • पेट में दर्द
  • पेट भरा हुआ महसूस करना
  • बीमार होना
  • खून की उल्टी
  • पेट में सूजन
  • मल में खून
  • रक्ताल्पता

इनमें से अधिकतर लक्षण पेट के कैंसर के अलावा वायरस या अल्सर के कारण होने की भी संभावना होती है।

सीने में जलन (Heartburn in Hindi) के लक्षण

एसिड रिफ्लक्स या हार्टबर्न का सबसे आम लक्षण छाती और गले में गर्मी या जलन की भावना है। यह तब होता है जब पेट की एसिड ग्रासनली से होते हुए गले की ओर प्रवाहित होती है।

हार्टबर्न के अन्य मुख्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • सीने के बीच में जलन महसूस होना
  • अपच
  • खट्टी डकार
  • कड़वा स्वाद
  • खट्टा स्वाद

यदि कोई व्यक्ति एसिड भाटा के लक्षणों का बार-बार अनुभव करता है, तो उन्हें एक डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए, जो उन्हें आगे की जांच के लिए आंत की दवा के विशेषज्ञ (गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट) के पास भेज सकता है।

सीने में जलन (Heartburn in Hindi) का इलाज

हार्टबर्न के लक्षणों को रोकने या प्रबंधित करने के कई तरीके हैं। निम्नलिखित उपचारों को अपनाकर सीने में जलन के लक्षणों को काफी हद तक रोका जा सकता है।

एंटासिड दवाएं: जो लोग 2 सप्ताह से कम समय तक अपच या सीने में जलन का अनुभव करते हैं, वे घर पर एंटासिड के उपयोग से इस स्थिति को रोक या प्रबंधन कर सकते हैं।

कई प्रकार के एंटासिड काउंटर पर और ऑनलाइन उपलब्ध हैं, जिन्हें आप आसानी से खरीद सकते हैं। ये पेट के एसिड को बेअसर करके काम करते हैं।

एंटीबायोटिक दवाएं: जिन लोगों को संक्रमण के कारण हार्टबर्न या अपच होती है, उनके लिए डॉक्टर आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं लेने की सलाह देते हैं।

प्रोटॉन पंप निरोधी: प्रोटॉन पंप अवरोधक, जैसे कि एसोमप्राज़ोल और लैंसोप्राज़ोल, नाराज़गी के इलाज में प्रभावी हैं। यह एक प्रिस्क्रिप्शन दवा है जो दवा की दुकानों पर उपलब्ध होती है।

जीवन शैली और आहार में परिवर्तन: लोग उन चीजों से भी बचने की कोशिश कर सकते हैं जिनसे अपच होने की संभावना अधिक होती है। इसमे शामिल है:

  • अधिक शराब का सेवन
  • अधिक कैफीन का सेवन
  • एक बार में बहुत ज्यादा खाना का सेवन
  • मसालेदार या वसायुक्त भोजन करना
  • तनाव
  • सिगरेट पीना

Leave a Comment