आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम अपने खान-पान पर बिल्कुल ध्यान नहीं दे पा रहे हैं, जिससे हमें कई तरह की बीमारियों से जूझना पड़ता है, जिनमें से एक है गैस्ट्राइटिस।

गैस्ट्राइटिस (Gastritis) पेट की एक गंभीर बीमारी है, जिसमें पेट की परत में सूजन आ जाती है। गेस्ट्राइटिस अचानक (तीव्र जठरशोथ) हो सकता है, या समय के साथ धीरे-धीरे प्रकट हो सकता है (पुरानी जठरशोथ)। 

कुछ मामलों में, गैस्ट्राइटिस से अल्सर हो सकता है और पेट के कैंसर होने का खतरा भी बना रहता है। हालांकि, अधिकांश लोगों के लिए गैस्ट्राइटिस एक साधारण बीमारी लगती है और इलाज से जल्दी ठीक हो जाती है।

गेस्ट्राइटिस क्या है? | What is Gastritis in Hindi?

गैस्ट्राइटिस पेट की परत की सूजन है और यह Helicobacter Pylori नामक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है। गैस्ट्राइटिस अचानक आ सकता है, जिससे ध्यान देने योग्य लक्षण होते हैं जो बिना उपचार के भी ठीक हो सकते हैं। 

हालांकि, क्रोनिक गैस्ट्राइटिस समय के साथ धीरे-धीरे प्रकट होते हैं, जिसके कारण हम इसे अनदेखा कर देते हैं। उपचार के बिना, यह समय के साथ कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है। गैस्ट्राइटिस के कारण विटामिन की कमी या पेट के अल्सर जैसी बीमारी हो सकती है।

गैस्ट्राइटिस का क्या कारण है? | What is the Cause of Gastritis in Hindi?

गैस्ट्राइटिस तब होता है जब कोई संक्रमण पेट के अस्तर जिसे म्यूकोसा कहते हैं, को नुकसान पहुंचाता है या कमजोर करता है। 

इसके अलावा, निम्नलिखित कारक गैस्ट्राइटिस के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • शराब का दुरुपयोग: लंबे समय तक शराब का सेवन पेट की परत को परेशान और नुकसान पहुंचा सकता है।
  • ऑटोइम्यून रोग: कुछ लोगों में, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पेट की परत में स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है।
  • जीवाणु संक्रमण: एच.पाइलोरी बैक्टीरिया क्रोनिक गैस्ट्रिटिस और पेप्टिक अल्सर रोग (पेट के अल्सर) का मुख्य कारण है। यह बैक्टीरिया पेट की सुरक्षात्मक परत को तोड़ते हैं और सूजन पैदा करते हैं।
  • पित्त भाटा: वसायुक्त खाद्य पदार्थों को पचाने में आपकी मदद करने के लिए यकृत पित्त बनाता है। पित्त भाटा तब होता है जब पित्त छोटी आंत से गुजरने के बजाय पेट में वापस प्रवाहित होता है।
  • दवाएं: पुराने दर्द को कम करने के लिए नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) या कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स का उपयोग पेट की परत को परेशान कर सकता है।
  • शारीरिक तनाव: गैस्ट्राइटिस गंभीर बीमारी या चोट के कारण हो सकता है। गैस्ट्राइटिस होने के लिए शारीरिक तनाव भी जिम्मेदार होता है।

गैस्ट्राइटिस के लक्षण क्या हैं? | What are the Symptoms of Gastritis in Hindi?

गैस्ट्राइटिस से परेशान ज्यादातर लोगों में कोई भी लक्षण नहीं दिखाई देती है। जिन लोगों में लक्षण दिखाई देती हैं वे अक्सर इस समस्या को अपच समझ लेते हैं।

गैस्ट्राइटिस के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • काला मल
  • सूजन
  • मतली और उल्टी
  • भोजन के दौरान पेट भरा हुआ महसूस होना
  • भूख में कमी
  • पेट का अल्सर
  • ऊपरी पेट में दर्द या बेचैनी
  • खून की उल्टी

गैस्ट्राइटिस का इलाज कैसे किया जाता है? | How is Gastritis Treated in Hindi?

गैस्ट्राइटिस का उपचार इसके विभिन्न कारणों पर निर्भर करता है। कुछ दवाएं बैक्टीरिया को मारती हैं, जबकि अन्य अपच के लक्षणों को कम करती हैं। 

आपका डॉक्टर या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता निम्नलिखित दवाओं को लेनी की सिफारिश कर सकता है:

  • एंटीबायोटिक्स: एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया के संक्रमण का इलाज कर सकते हैं। आपको कुछ हफ़्ते के लिए एक या अधिक प्रकार के एंटीबायोटिक लेने की आवश्यकता हो सकती है।
  • प्रोटॉन पंप अवरोधक: ये दवाएं, जैसे ओमेप्राज़ोल (ओमेज़ कैप्सूल) और एसोमप्राज़ोल (एसोज़ टैबलेट), आपके पेट में पैदा होने वाले एसिड की मात्रा को कम करती हैं। प्रोटॉन पंप अवरोधक पेट के अल्सर और गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग के इलाज में भी मदद करते हैं।
  • एंटासिड: कैल्शियम कार्बोनेट दवाएं पेट में एसिड के जोखिम को कम करती हैं। इसके अलावा, यह सूजन को दूर करने में मदद कर सकते हैं। डाइजीन सिरप, पॉलीक्रॉल सिरप और जेलुसिल सिरप जैसे एंटासिड भी हर्टबर्न का इलाज करने में मदद करते हैं।
  • हिस्टामाइन ब्लॉकर्स: Cimetidine (Tagamet), रैनिटिडीन (Rantac) और इसी तरह की दवाएं पेट में एसिड के उत्पादन को कम करने में मदद करती हैं।

गैस्ट्राइटिस को कैसे रोकें? | How to Prevent Gastritis in Hindi?

एच. पाइलोरी गैस्ट्राइटिस के मुख्य कारणों में से एक है, लेकिन अधिकांश लोगों को यह नहीं पता होता है कि वे कब इस बैक्टीरिया से संक्रमित हो जाते हैं। संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए अपने हाथ धोने सहित अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें।

इसके अलावा, आप अपच और नाराज़गी को कम करने के लिए भी कदम उठा सकते हैं, क्योंकि ये स्थितियां गैस्ट्राइटिस से जुड़ी हैं। आप निम्न उपायों से गैस्ट्राइटिस के खतरे को कम कर सकते हैं।

  • वसायुक्त, तला हुआ या मसालेदार खाद्य पदार्थों से परहेज करना।
  • दिन भर में छोटे-छोटे भोजन करना।
  • तनाव को कम करना
  • NSAIDs वर्ग की दवाइयां नहीं लेना।
  • शराब का सेवन कम करना।
  • भोजन के तुरंत बाद रेस्ट नहीं लें।

References

Leave a Comment