दालचीनी के फायदे | Benefits of Cinnamon in Hindi

Benefits of Cinnamon in Hindi: दालचीनी, जिसे हम Cinnamon के नाम से भी जाना जाता है, लगभग हर रसोई में पाया जाने वाला मसाला है। दालचीनी मधुमेह के प्रबंधन के लिए एक प्रभावी उपाय है, क्योंकि यह शरीर में ग्लूकोज के अवशोषण में सुधार करती है।

यह उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर को भी कम करता है। इसके अलावा, इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण हृदय रोगों के जोखिम को भी कम करता है। इसका उपयोग मासिक धर्म के दर्द को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है, क्योंकि इसमें ऐंठन-रोधी गुण होते हैं।

आप अपनी चाय में कुछ दालचीनी की छाल मिलाकर या नींबू पानी में एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिलाकर रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। यह पाचन को बढ़ाने और वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है।

दालचीनी अपने जीवाणुरोधी गुण के कारण मुंहासों को नियंत्रित करने के लिए अच्छी होती है। आप दालचीनी पाउडर को शहद के साथ मिला सकते हैं और मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए इसे फेसपैक के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

दालचीनी के फायदे | Benefits of Cinnamon in Hindi

इस लेख में, दालचीनी के 7 बड़े फायदे के बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे। इन सभी फायदों को विज्ञान और आयुर्वेद के दृष्टिकोण से जानने का प्रयास करेंगे।

मधुमेह के लिए दालचीनी के फायदे | Benefits of Cinnamon for Diabetes in Hindi

दालचीनी ग्लूकोज की मात्रा में सुधार करके मधुमेह के प्रबंधन में उपयोगी हो सकती है। दालचीनी में मौजूद Cinnamaldehyde ग्लूकोज को सोर्बिटोल में बदलने से रोकता है और मधुमेह संबंधी जटिलताओं के जोखिम को कम करता है।

दालचीनी सामान्य शुगर लेवल को मैनेज करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार, Diabetes को मधुमेह के नाम से भी जाना जाता है, यह वात की वृद्धि और खराब पाचन के कारण होता है। बिगड़ा हुआ पाचन अग्न्याशय की कोशिकाओं में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) का संचय करता है और इंसुलिन के कार्य को बाधित करता है।

दालचीनी अपनी उष्ना शक्ति के कारण खराब पाचन को ठीक करने में मदद करती है। यह अमा को कम करता है और इंसुलिन के कार्य में सुधार करता है। इस प्रकार सामान्य रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करने में दालचीनी एक अहम भूमिका निभाता है।

कोरोनरी धमनी रोग के लिए दालचीनी के लाभ | Benefits of Cinnamon for Coronary Artery Disease in Hindi

कोरोनरी धमनी रोग एक ऐसी स्थिति है, जिसमें धमनियां जिसके माध्यम से हृदय में रक्त प्रवाहित होता है, संकीर्ण और कठोर हो जाती है। यह धमनियों के अंदर पट्टिका (plaque) के जमाव के कारण होता है।

दालचीनी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है, जो धमनियों के सिकुड़ने के जोखिम को कम करता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं, जो संकुचित रक्त वाहिकाओं को आराम देकर उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है। साथ में यह कोरोनरी धमनी रोग के जोखिम को कम करता है।

आयुर्वेद के अनुसार, दालचीनी कोरोनरी आर्टरी डिजीज के जोखिम को कम करने में मदद करती है। आयुर्वेद में, सभी प्रकार की कोरोनरी धमनी रोग सिरा दुष्ती (धमनियों का संकुचित होना) के अंतर्गत आते हैं। कोरोनरी आर्टरी डिजीज मुख्य रूप से कफ दोष के असंतुलन के कारण होता है, जिससे रक्त के थक्के जमने का खतरा बढ़ जाता है।

Read More:  Schwabe Dizester Syrup in Hindi: फायदे, नुकसान, कीमत

Tips:

  1. एक पैन में 1.5 कप पानी डालें और 2 छोटे दालचीनी डालें।
  2. इसे मध्यम आंच पर 5-6 मिनट तक उबालें।
  3. इसमें ½ नीबू निचोड़ कर छान लें।
  4. कोरोनरी आर्टरी डिजीज के जोखिम से निपटने के लिए इसे दिन में दो बार पिएं।

एलर्जी की स्थिति के लिए दालचीनी के लाभ | Benefits of Cinnamon for Allergic Conditions in Hindi

एक अध्ययन के अनुसार, दालचीनी, साइटोकिन्स, ल्यूकोट्रिएन्स और पीजीडी2 जैसे प्रो-इंफ्लेमेटरी मध्यस्थों के संश्लेषण और रिलीज को रोककर नाक की एलर्जी के मामले में राहत दे सकती है।

आयुर्वेद के अनुसार, शहद के साथ लेने पर दालचीनी एलर्जी के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करती है। एलर्जी शरीर में अमा (अनुचित पाचन के कारण शरीर में विषाक्त अवशेष) के संचय के परिणामस्वरूप होती है। यह कफ दोष के असंतुलन के कारण होता है।

दालचीनी अपनी उष्ना (गर्म) प्रकृति के कारण अमा के गठन को रोकती है और कफ को संतुलित करने में भी मदद करती है। इस प्रकार दालचीनी एलर्जी के लक्षणों का प्रबंधन करने में मदद करती है।

Tips:

  1. 1-2 चुटकी दालचीनी पाउडर लें।
  2. इसे शहद में मिलाकर पेस्ट बना लें।
  3. हल्का भोजन करने के बाद दिन में दो बार लें।
  4. इसे तब तक दोहराएं जब तक आपको एलर्जी के लक्षणों से राहत न मिल जाए।

फंगल संक्रमण के लिए दालचीनी के लाभ | Benefits of Cinnamon for Fungal Infection in Hindi

दालचीनी में मौजूद सिनामाल्डिहाइड Candida albicans के खिलाफ रोगाणुरोधी गतिविधि दिखाता है, जिससे फंगल संक्रमण का खतरा कम होता है।

आयुर्वेद के अनुसार, दालचीनी अपने तीक्ष्ण और उष्ना गुणों के कारण शरीर में फंगल / खमीर संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम के लिए दालचीनी के लाभ | Benefits of Cinnamon for Irritable Bowel Syndrome in Hindi

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि, दालचीनी Irritable Bowel Syndrome (IBS) के लक्षणों को कम करने में उपयोगी हो सकती है।

दालचीनी इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (IBS) के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) को ग्रहानी के नाम से भी जाना जाता है। ग्रहणी पचक अग्नि के असंतुलन के कारण होती है। दालचीनी अपने उष्ना प्रकृति के कारण पचक अग्नि को बेहतर बनाने में मदद करती है।

Tips:

  1. एक पैन में 1.5 कप पानी डालें और 2 छोटे दालचीनी डालें।
  2. माध्यम आंच पर 5-6 मिनट तक उबालें।
  3. इसमें ½ नीबू निचोड़ कर छान लें।
  4. इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने के लिए इसे दिन में दो बार पिएं।

मासिक धर्म के दर्द के लिए दालचीनी के फायदे | Benefits of Cinnamon for Menstrual Pain in Hindi

पीरियड्स के दौरान ऐंठन और मासिक धर्म में दर्द प्रोजेस्टेरोन के बढ़ते स्तर के कारण होता है। दालचीनी में cinnamaldehyde और eugenol नाम के दो सक्रिय घटक होते हैं।

सिनामाल्डिहाइड एक antispasmodic के रूप में काम करता है और यूजेनॉल prostaglandin synthesis को रोकता है और सूजन को कम करता है। इसलिए, दालचीनी मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द और परेशानी को काफी हद तक कम कर देती है।

मासिक धर्म या कष्टार्तव के दौरान दर्द को कम करने के लिए दालचीनी सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। कष्टार्तव मासिक धर्म के दौरान या उससे पहले दर्द या ऐंठन है। आयुर्वेद में, इस स्थिति को काश्त-आर्तव के नाम से जाना जाता है।

आरतव या मासिक धर्म वात दोष द्वारा नियंत्रित होता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि एक महिला में कष्टार्तव को प्रबंधित करने के लिए वात नियंत्रण में होना चाहिए।

दालचीनी में वात संतुलन गुण होता है और यह कष्टार्तव में राहत देता है। यह बढ़े हुए वात को नियंत्रित करता है और मासिक धर्म के दौरान पेट में दर्द और ऐंठन को कम करता है।

Tips:

  1. एक पैन में 1.5 कप पानी डालें और 2 छोटे दालचीनी डालें।
  2. मध्यम आंच पर 5-6 मिनट तक उबालें।
  3. इसमें ½ नीबू निचोड़ कर छान लें।
  4. मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए इसे दिन में कम से कम दो बार पियें।

मुँहासे के लिए दालचीनी के लाभ | Benefits of Cinnamon for Acne in Hindi

दालचीनी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं, जो मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया की वृद्धि और गतिविधि को रोककर मुंहासों को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं और यह मुंहासों के आसपास दर्द और लालिमा को कम करने में मदद करता है।

Read More:  Charak M2 Tone Syrup Help To Conceive In Hindi

मुंह के फंगल इन्फेक्शन के लिए दालचीनी के फायदे | Benefits of Cinnamon for Thrush in Hindi

दालचीनी HIV वाले कुछ लोगों में मुंह में फंगल संक्रमण, थ्रश के रूप में जानी जाने वाली स्थिति में सुधार कर सकती है। दालचीनी में मौजूद cinnamaldehyde कैंडिडा एल्बीकैंस के खिलाफ रोगाणुरोधी गतिविधि दिखाता है, जिससे फंगल संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

आयुर्वेद के अनुसार, दालचीनी में तीक्ष्ण और उष्ना गुण होते हैं, जिसके कारण यह शरीर में candida albicans संक्रमण के जोखिम को कम करता है।

FAQ: दालचीनी के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या दालचीनी के साथ शहद वजन घटाने में मदद कर सकता है?

हां, वजन घटाने के लिए दालचीनी पाउडर को शहद के साथ ले सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि दोनों में कफ को संतुलित करने का गुण होता है, जो वजन बढ़ने का प्रमुख कारण है।

Q. क्या मैं दालचीनी पाउडर को अदरक के साथ ले सकता हूँ?

हां, आप दालचीनी पाउडर को अदरक के साथ ले सकते हैं, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। अदरक और दालचीनी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो मुक्त कणों (free radicals) को नष्ट करते हैं और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं। यह मांसपेशियों की थकान को कम करने में मदद करता है।

Q. क्या दालचीनी वजन कम करने में आपकी मदद कर सकती है?

वजन में वृद्धि अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतों और जीवन शैली के कारण होती है जो कमजोर पाचन अग्नि की ओर ले जाती है। यह अमा के संचय को बढ़ाता है, जिससे मेदा धातु में असंतुलन पैदा होता है और परिणामस्वरूप मोटापा होता है।

दालचीनी वजन प्रबंधन में उपयोगी है, क्योंकि यह चयापचय में सुधार और अमा को कम करने में मदद करती है। यह मेदा धातु को संतुलित करता है और इस प्रकार वजन कम करता है।

Q. क्या दालचीनी पाचन में मदद कर सकती है?

दालचीनी अपच जैसी पाचन संबंधी समस्याओं को ठीक करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार, अपच का अर्थ है, पाचन की अपूर्ण प्रक्रिया की स्थिति। अपच का मुख्य कारण बढ़ा हुआ कफ है जो अग्निमांड्य (कमजोर पाचन अग्नि) का कारण बनता है। दालचीनी के सेवन से पाचन अग्नि में सुधार होता है और भोजन आसानी से पच जाता है।

Q. क्या लीवर के मरीज दालचीनी का सेवन कर सकते हैं?

दालचीनी में coumarin होता है, जो एक स्वादिष्ट बनाने वाला घटक है। लीवर/यकृत विकारों वाले रोगियों में coumarin के अधिक सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इससे liver toxicity और लीवर को नुकसान हो सकता है।

Q. क्या उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए दालचीनी अच्छी है?

दालचीनी उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है। आयुर्वेद के अनुसार, उच्च कोलेस्ट्रॉल पचक अग्नि के असंतुलन के कारण होता है। ऊतक स्तर पर बिगड़ा हुआ पाचन अतिरिक्त अपशिष्ट उत्पाद या अमा पैदा करता है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल के संचय का कारण बनता है।

दालचीनी अग्नि को सुधारने और अमा को कम करने में मदद करती है। यह इसके दीपन और पचन गुणों के कारण होता है। नतीजतन, यह उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और रक्त वाहिकाओं से रुकावट को दूर करता है।

Q. क्या दालचीनी एसिड भाटा का कारण बनती है

आम तौर पर, दालचीनी पाचन में सुधार करने में मदद करती है। यह पाचन अग्नि में सुधार करके अपचन या गैस से राहत देती है। लेकिन अगर इसे अधिक मात्रा में लिया जाए तो इसमें उष्ना गुण होने के कारण यह एसिड रिफ्लक्स का कारण बन सकता है। इसलिए, दालचीनी के पाउडर को शहद या दूध के साथ लेने की सलाह दी जाती है।

Q. क्या दालचीनी पाउडर को हल्दी के साथ खाली पेट गर्म पानी में ले सकते हैं?

हाँ, आप खाली पेट दालचीनी पाउडर को हल्दी के साथ गर्म पानी में मिलाकर शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम कर सकते हैं। लेकिन अगर आपको एसिडिटी की हिस्ट्री है, तो कृपया इसे खाली पेट या अधिक मात्रा में लेने से बचें। ऐसा इसलिए है, क्योंकि दोनों जड़ी-बूटियां उष्ना प्रकृति की हैं और एसिडिटी के लक्षणों को बढ़ा सकती हैं।

Read More:  लिव ५२ डीएस टैबलेट के फायदे, उपयोग, कीमत | Liv 52 DS Tablet in Hindi
Q. दालचीनी की चाय पीने के क्या फायदे हैं?

शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए दालचीनी बहुत उपयोगी जड़ी बूटी है। दालचीनी की चाय अपने वात संतुलन प्रकृति के कारण शरीर पर शांत प्रभाव डालती है। यह अपने दीपन और पचन गुणों के कारण चयापचय में सुधार करके अच्छे पाचन और रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में भी मदद करता है।

Q. क्या पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम वाली महिलाओं के लिए दालचीनी अच्छी है?

आयुर्वेद के अनुसार, शरीर में कफ और वात का असंतुलन महिलाओं में पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दालचीनी शरीर में वात और कफ को संतुलित करती है और पीसीओएस के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करती है।

Q. क्या अल्जाइमर और पार्किंसन जैसे न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों के लिए दालचीनी फायदेमंद है?

हां, दालचीनी को आहार में शामिल करना पार्किंसंस और अल्जाइमर रोग जैसे न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह एक प्रोटीन के स्तर को प्रभावित करता है जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है। यह मोटर गतिविधियों में सुधार करने में मदद करता है और मस्तिष्क की कोशिकाओं को और अधिक क्षति से बचाता है।

Q. त्वचा के लिए दालचीनी के क्या फायदे हैं?

दालचीनी में जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण होते हैं और यह त्वचा के संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं और यह महीन रेखाओं और झुर्रियों की उपस्थिति को कम करता है।

Q. दालचीनी आपके बालों के लिए क्या करती है?

आयुर्वेद के अनुसार, दालचीनी बालों को फिर से उगाने में मदद करती है और अपने रुखसाना (शुष्क) और तीक्ष्ण (तेज) गुणों के कारण रूसी को नियंत्रित करती है।

Q. क्या दालचीनी पाउडर त्वचा की बढ़ती उम्र को रोक सकता है?

दालचीनी त्वचा की कोशिकाओं के भीतर collagen proteins के संश्लेषण को बढ़ावा देती है और उम्र बढ़ने के संकेतों और लक्षणों को सुधारने में मदद करती है। दालचीनी पाउडर जब शहद के साथ चेहरे पर लगाया जाता है, तो त्वचा की बनावट और त्वचा की elasticity में सुधार होता है।

Q. क्या दालचीनी आपके दांतों के स्वास्थ्य के लिए अच्छी है?

दालचीनी एक प्राकृतिक जीवाणुरोधी एजेंट के रूप में कार्य करती है और दांतों पर बायोफिल्म के निर्माण को कम करती है। यह मुंह से दुर्गंध (सांसों की दुर्गंध) को रोकने के लिए मौखिक बैक्टीरिया द्वारा गैस और एसिड के उत्पादन को भी रोकता है।

Q. दालचीनी को कैसे स्टोर करें?

दालचीनी पाउडर या दालचीनी को एक कसकर सील कंटेनर में ठंडी, अंधेरी और सूखी जगह पर रखनी चाहिए। दालचीनी पाउडर लगभग छह महीने तक रहता है, जबकि दालचीनी की काठी एक साल तक ताजा रहती हैं।

References:

  • Kawatra P, Rajagopalan R. Cinnamon: Mystic powers of a minute ingredient. Pharmacognosy Res. 2015;7(Suppl 1):S1-S6. doi:10.4103/0974-8490.157990. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26109781/
  • Esmaillzadeh A, Keshteli AH, Hajishafiee M, Feizi A, Feinle-Bisset C, Adibi P. Consumption of spicy foods and the prevalence of irritable bowel syndrome. World J Gastroenterol. 2013;19(38):6465-6471. doi:10.3748/wjg.v19.i38.6465. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24151366/
  • Jaafarpour M, Hatefi M, Khani A, Khajavikhan J. Comparative effect of cinnamon and Ibuprofen for treatment of primary dysmenorrhea: a randomized double-blind clinical trial. J Clin Diagn Res. 2015;9(4):QC04-QC7. doi:10.7860/JCDR/2015/12084.5783. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4437117/
  • Julianti E, Rajah KK, Fidrianny I.Antibacterial activity of ethanolic extract of Cinnamon bark, honey, and their combination effects against acne-causing bacteria.Sci Pharm.2017;85(2):E19. https://www.mdpi.com/2218-0532/85/2/19
  • Kawatra P, Rajagopalan R. Cinnamon: Mystic powers of a minute ingredient. Pharmacognosy Res. 2015;7(Suppl 1):S1-S6. doi:10.4103/0974-8490.157990. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4466762/
  • Mashhadi NS, Ghiasvand R, Hariri M, et al. Effect of ginger and cinnamon intake on oxidative stress and exercise performance and body composition in Iranian female athletes. Int J Prev Med. 2013;4(Suppl 1):S31-S35. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23717766/
  • Khasnavis S, Pahan K. Cinnamon treatment upregulates neuroprotective proteins Parkin and DJ-1 and protects dopaminergic neurons in a mouse model of Parkinson’s disease. J Neuroimmune Pharmacol. 2014;9(4):569-581. doi:10.1007/s11481-014-9552-2. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24946862/
  • Binic I, Lazarevic V, Ljubenovic M, et al.Skin ageing: Natural weapons and strategies.Evid Based Complement Alternat Med.2013;2013:10. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3569896/

Leave a Comment