अश्वगंधा के 15 फायदे और नुकसान (Ashwagandha Benefits in Hindi)

प्राचीन भारतीय औषधियों में से एक, अश्वगंधा को आमतौर पर “इंडियन विंटर चेरी” या “इंडियन जिनसेंग” के रूप में जाना जाता है। अश्वगंधा एक सदाबहार झाड़ी है जो भारत, मध्य पूर्व और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में उगती है। झाड़ी का हर एक हिस्सा किसी न किसी तरह से बेहद उपयोगी होता है।

अश्वगंधा नाम संस्कृत के शब्द “अश्व” से बना है, जिसका अर्थ है घोड़ा और “गंधा”, जिसका अर्थ है गंध। पारंपरिक भारतीय वर्गीकरण के अनुसार, अश्वगंधा को एक रसायन माना जाता है जिसका अर्थ है कि यह जीवन को लंबा करने में मदद करता है।

आधुनिक चिकित्सा अश्वगंधा को एक एडाप्टोजेन के रूप में वर्गीकृत करती है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर को तनाव के अनुकूल बनाने में मदद करता है। यह जड़ी बूटी अपने कायाकल्प और चिकित्सीय गुणों के लिए सबसे प्रसिद्ध है।

अश्वगंधा के सबसे प्रसिद्ध उपयोग को चूर्ण के रूप में किया जाता है और यह चूर्ण झाड़ी की जड़ों से तैयार किया जाता है। इस पाउडर का सबसे आम उपयोग ल्यूकोडर्मा, कब्ज, अनिद्रा, गठिया, तंत्रिका टूटने, घेंघा आदि जैसी स्थितियों से राहत के लिए होता है। पाउडर से तैयार पेस्ट को सूजन और दर्द से राहत पाने के लिए जोड़ों पर भी लगाया जाता है।

इसके अलावा अश्वगंधा झाड़ी के अन्य भाग भी अत्यंत उपयोगी होते हैं। उदाहरण के लिए, अश्वगंधा के पत्ते, हालांकि स्वाद में कड़वे होते हैं, आयरन से भरपूर होते हैं और इन्हें हर्बल चाय के रूप में सेवन किया जा सकता है। ये भारी पीरियड्स के कारण एनीमिया और खून की कमी जैसी स्थितियों से राहत दिलाने में मदद करते हैं।

अश्वगंधा के पत्तों से बनी हर्बल चाय एक एनर्जी टॉनिक के रूप में भी काम करती है और बुखार और दर्दनाक सूजन से राहत दिलाती है।

अश्‍वगंधा के फायदे | Ashwagandha Benefits in Hindi

ऐतिहासिक रूप से, अश्वगंधा की जड़ों का उपयोग गठिया, कब्ज, अनिद्रा, त्वचा की स्थिति, तनाव, जठरांत्र संबंधी मुद्दों, मधुमेह, तंत्रिका टूटने, बुखार, सांप के काटने, स्मृति हानि और कई अन्य स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। अश्वगंधा के पत्ते, बीज और यहां तक ​​कि फल का उपयोग विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है।

आइए अश्वगंधा के अन्य 16 फायदों के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करते हैं।

1. चिंता कम करने के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा को एडाप्टोजेन के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर को तनाव के अनुकूल बनाने में मदद करता है। यह मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा देने के साथ-साथ चिंता और अवसाद के लक्षणों से लड़ने में मदद कर सकता है।

यदि आप अपने दैनिक जीवन में तनाव का अनुभव करते हैं, तो आप अपने शरीर की मालिश करने के लिए पारंपरिक आयुर्वेदिक तेल अश्वगंधा का उपयोग कर सकते हैं। यह तेल तनाव, थकावट और शरीर के दर्द को कम करता है।

Read More:  Himalaya Speman Tablet in Hindi: उपयोग, खुराक, दुष्प्रभाव, कीमत

2. सूजन को कम करने के लिए अश्वगंधा के फायदे

सूजन संक्रमण, विषाक्त पदार्थों और आघात जैसी स्थितियों के लिए शरीर की सामान्य प्रतिक्रिया है। सामान्य परिस्थितियों में, शरीर संतुलन बहाल करने के लिए एक विरोधी भड़काऊ प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है। हालांकि, पुराने दर्द के मामलों में, शरीर भड़काऊ प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं है। नतीजतन, हमें गंभीर दर्द होता है।

कई आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ हैं जो चल रही, अतिरिक्त सूजन से राहत दिलाने में मदद करती हैं। अश्वगंधा एक ऐसी जड़ी-बूटी है जो सूजन को कम करने में कारगर साबित हुई है। अश्वगंधा की पत्तियों से बनी चाय सूजन से राहत दिलाने में मददगार होती है।

3. सहनशक्ति बढ़ाने के लिए अश्वगंधा के फायदे

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में थकान महसूस होना स्वाभाविक है। एक अस्वास्थ्यकर जीवनशैली और आहार आपकी सहनशक्ति को कम कर सकता है और आपको थका हुआ महसूस करा सकता है।

अगर आपको अपने दैनिक कार्यों को करने में परेशानी हो रही है या आपको लगता है कि आपमें सहनशक्ति की कमी है, तो अश्वगंधा आपके लिए सबसे अच्छा उपाय हो सकता है।

अश्वगंधा रात में अच्छी और शांतिपूर्ण नींद को बढ़ावा देने के लिए पूरे दिन शरीर को महत्वपूर्ण ऊर्जा प्रदान करता है। यह व्यायाम और कसरत करने की आपकी समग्र क्षमता को भी बढ़ाता है।

4. मधुमेह से लड़ने के लिए अश्वगंधा के फायदे

मधुमेह से लड़ना कठिन है क्योंकि आपको अपनी जीवन शैली को बदलने और दवाओं के एक नए आहार को अपनी दिनचर्या में शामिल करने की आवश्यकता है। इसका सबसे तीव्र हिस्सा आपके द्वारा ली जाने वाली सभी गोलियों के दुष्प्रभाव हैं। लेकिन, आयुर्वेदिक दवाएं बिना कोई साइड इफेक्ट छोड़े इसे ठीक कर सकती हैं। वे बीमारी को पूरी तरह से ठीक करने और आपको एक स्वस्थ शरीर और दिमाग देने के लिए जाने जाते हैं।

मधुमेह नियंत्रण की दृष्टि से अश्वगंधा फायदेमंद है। यह शरीर के इंसुलिन के उत्पादन को नियंत्रित करके काम करता है। इसके अलावा, यह रक्त में शर्करा के टूटने में सुधार करके रक्तप्रवाह में इंसुलिन के स्राव को उत्तेजित करता है। इसके परिणामस्वरूप शरीर में अपेक्षाकृत कम हानिकारक शर्करा का संचय होता है। इसके अलावा अश्वगंधा को कोलेस्ट्रॉल कम करने की रामबाण औषधि माना जाता है।

इस प्रकार, जब आप एक महत्वपूर्ण अवधि में अश्वगंधा के अर्क का सेवन करते हैं तो रक्त शर्करा का स्तर कम रहता है। अश्वगंधा अपशिष्ट को बेहतर ढंग से हटाने और संपूर्ण स्वास्थ्य को सक्षम करने के लिए शरीर के समग्र चयापचय को भी प्रभावित कर सकता है। यह टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए विशेष रूप से प्रभावी साबित हुआ है।

5. थायराइड स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए अश्वगंधा के फायदे

थायराइड आपकी गर्दन के पीछे स्थित एक अंग है। अश्वगंधा थायराइड स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। T3 और T4 थायराइड हार्मोन के स्तर को बढ़ाकर, अश्वगंधा हाइपोथायरायडिज्म के प्रबंधन में भूमिका निभा सकता है लेकिन हाइपरथायरायडिज्म के लक्षणों को खराब कर सकता है। इसलिए, थायराइड से संबंधित विकारों के इलाज के लिए अश्वगंधा लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

Read More:  Zandu Nityam Tablet in Hindi: उपयोग, फायदे, खुराक, कीमत

6. अल्सर का इलाज के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा गैस्ट्रिक अल्सर के लिए एक प्राकृतिक उपचार हो सकता है। गैस्ट्रिक अल्सर जो पेट के अस्तर को नुकसान से विकसित हो सकते हैं। तनाव- मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से भी अल्सर का खतरा बढ़ सकता है।

अश्वगंधा न केवल अल्सर का इलाज करता है बल्कि अल्सर के खतरे को भी कम कर सकता है। अश्वगंधा अकेले या अन्य जड़ी बूटियों के साथ पेट में गैस्ट्रिक एसिड के स्तर को कम कर सकता है, जिससे दर्दनाक अल्सर के गठन को रोका जा सकता है।

7. अस्थमा के इलाज के लिए अश्वगंधा के फायदे

अस्थमा एक श्वसन विकार है जिसमें सांस लेने में तकलीफ, खांसी, घरघराहट और छाती में जमाव हो सकता है। अगर आप अस्थमा से पीड़ित हैं, तो अश्वगंधा आपकी स्थिति के लिए एक प्राकृतिक इलाज साबित हो सकता है।

ऐसे कई कारक हो सकते हैं जो अस्थमा को ट्रिगर कर सकते हैं जैसे धूल, पराग, तनाव, चिंता, प्रदूषण आदि।

विभिन्न आयुर्वेदिक ग्रंथों में बच्चों और वयस्कों में अस्थमा के विभिन्न इलाजों का उल्लेख किया गया है। इसमें आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी-बूटियों का उपयोग करना और जीवनशैली में महत्वपूर्ण बदलाव शामिल है।

अश्वगंधा की जड़ें जब नियमित रूप से सेवन की जाती हैं, तो तनाव कम होता है जो बदले में इस तरह के श्वसन रोगों से लड़ने में मदद करता है।

8. संक्रमण से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अश्वगंधा के फायदे

क्या आप जानते हैं कि अश्वगंधा प्रसिद्ध लक्षदी थिलम के 15 अवयवों में से एक है जो संक्रमण से लड़ने, बुखार को ठीक करने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए लोकप्रिय है।

त्वचा और स्वास्थ्य के लिए इसके कई लाभों के कारण लक्षदी थिलम का उपयोग शिशुओं के लिए शरीर की मालिश के तेल के रूप में किया जाता है।

अश्वगंधा सूजन या संवेदनशील त्वचा को शांत करता है। इसलिए, यह शिशुओं की संवेदनशील त्वचा के लिए आदर्श है।

9. अनिद्रा उपचार के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा आपकी अनिद्रा के इलाज में माहिर है। इसमें नींद लाने वाले गुण होते हैं जो अनिद्रा से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। सोने से पहले एक कप अश्वगंधा का चूर्ण दूध में मिलाकर पीने से आराम मिलता है और अच्छी नींद आती है।

10. अल्जाइमर के उपचार के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा बीटा-एमिलॉइड सजीले टुकड़े के उत्पादन को रोकता है। मस्तिष्क की कोशिकाओं के लिए घातक मानी जाने वाली ये पट्टिकाएं अल्जाइमर जैसे न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों वाले लोगों के दिमाग में विकसित होती हैं।

अश्वगंधा सीधे मस्तिष्क के रसायनों को बदलने के बजाय यकृत में एक प्रोटीन को बढ़ाता है जो मस्तिष्क से अमाइलॉइड को साफ करने में मदद करता है।

11. मुँहासे को रोकने और ठीक करने के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा की जड़ में जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी दोनों गुण होते हैं जो त्वचा को संक्रमण या मुंहासों से बचाते हैं। यह त्वचा में कोलेजन को भी बढ़ाता है जो इसे उम्र बढ़ने से रोकता है। यदि आप मुंहासों से पीड़ित हैं, तो आपको अश्वगंधा पाउडर के साथ प्राकृतिक फेस पैक आजमाना चाहिए।

Read More:  Himalaya Liv 52 Tablet in Hindi: उपयोग, फायदे, खुराक, कीमत

12. दिल की सेहत के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, सीने में दर्द और कई अन्य हृदय रोगों के उपचार सहित हृदय के लिए कई तरह के लाभ प्रदान करता है। अश्वगंधा पाउडर को अपने आहार में शामिल करने से दिल को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है।

13. त्वचा को टोन करने के लिए अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग गर्भवती महिलाओं में दर्द और थकान को दूर करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा, यह मांसपेशियों को भी मजबूत करता है और त्वचा के खिंचाव के निशान में सुधार करता है जो अक्सर गर्भावस्था के दौरान होता है।

14. वजन घटाने के लिए अश्वगंधा के फायदे

क्या आप लगातार वजन बढ़ने से परेशान हैं? अश्वगंधा आपके वजन को कम करने और बनाए रखने में आपकी मदद कर सकता है। जबकि अश्वगंधा कैप्सूल के रूप में भी उपलब्ध है, इसे सूखे अश्वगंधा के पत्तों से बने पाउडर के रूप में सेवन करने की सलाह दी जाती है।

15. महिलाओं के लिए अश्वगंधा के फायदे

प्रजनन क्षमता, कामेच्छा और स्वस्थ मासिक धर्म को प्रभावित करने वाले संवेदनशील प्रजनन हार्मोन को विनियमित करने में तनाव एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। तनाव को कम करने में अश्वगंधा की भूमिका को महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य का समर्थन करने से जोड़ा गया है।

अश्वगंधा अंतःस्रावी तंत्र के भीतर परिसंचरण को बढ़ाता है – अधिवृक्क ग्रंथियों को मजबूत करता है, कोर्टिसोल को कम करता है और रक्त उत्पादन को बढ़ाता है। अश्वगंधा का रक्त प्रवाह और मासिक धर्म के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और यह प्रजनन क्षमता में सुधार करने में भी मदद कर सकता है।

अश्वगंधा के दुष्प्रभाव | Ashwagandha Side Effects in Hindi

गर्भवती महिलाओं को अश्वगंधा के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इससे प्रसव जल्दी हो सकता है। हालांकि अश्वगंधा की खुराक आमतौर पर अच्छी तरह से सहन की जाती है, जब सामान्य खुराक में अल्पावधि ली जाती है। हल्के से मध्यम दुष्प्रभाव जैसे सिरदर्द, नींद न आना और पेट खराब होना हो सकता है। 

अश्वगंधा संभावित रूप से रक्तचाप और रक्त शर्करा को कम कर सकता है और थायराइड हार्मोन के स्तर को बढ़ा सकता है। इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

सारांश | Summary

आशा है कि इस लेख ने आपको जादुई जड़ी बूटी – अश्वगंधा के लाभों और उपयोगों के बारे में उपयोगी जानकारी प्रदान की है। आप अपने बेहतर स्वास्थ्य के लिए अश्वगंधा का उपयोग शुरू कर सकते हैं। हालांकि, इस प्राचीन आयुर्वेदिक दवा का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना न भूलें। सेफ्टी नोट और साइड इफेक्ट का भी ध्यान रखें।

Leave a Comment